महिला कम्प्यूटर आपरेटर ने SDM कार्यालय में ही कर ली खुदकुशी

0
346
computer operator
computer operator

जींद: हरियाणा के जींद जिले के उचाना नगर स्थित एसडीएम कार्यालय में कम्प्यूटर आपरेटर के तौर पर कार्यरत 35 वर्षीय एक महिला ने जहरीले पदार्थ का सेवन कर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। यह जानकारी पुलिस ने शुक्रवार को दी। पुलिस ने बताया कि महिला ने एक सुसाइड नोट और एक ऑडियो क्लिप छोड़ी है जिसमें उसने एसडीएम कार्यालय में तैनात कुछ कर्मचारियों पर आरोप लगाया है

 

कि उनकी वजह से उसे यह कदम उठाना पड़ा है उचाना पुलिस थाने के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि महिला के परिवार की शिकायत और मृतक द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट के आधार पर 12 लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत एक मामला दर्ज किया गया है। उचाना पुलिस थाने प्रभारी रवींद्र धनखड़ ने कहा, ‘‘शिकायत में एसडीएम को भी नामजद किया गया है।’’ उन्होंने कहा कि महिला ने आत्महत्या करने से पहले चार पृष्ठ का एक सुसाइड नोट और एक वॉयस रिकॉर्डिंग छोड़ी है। धनखड़ ने कहा कि उसने जींद के पुलिस अधीक्षक से मामले में कार्रवाई की मांग की है।

उन्होंने कहा कि महिला एसडीएम कार्यालय में अनुबंध के आधार पर कार्यरत थी। उन्होंने कहा कि उसके परिवार ने दावा किया है कि वह हरियाणा के जींद जिले के उचाना में एसडीएम कार्यालय में काम करने वाली एकमात्र महिला थी। धनखड़ ने कहा, ‘‘सुसाइड नोट में महिला ने दावा किया है कि कुछ कर्मचारी आधिकारिक मामलों में कुछ गलत काम करने के लिए उस पर कथित तौर पर दबाव बनाते थे, लेकिन वह इनकार कर देती थी उन्होंने कहा कि महिला ने यह भी लिखा है कि उसने कुछ कर्मचारियों की कथित गलत हरकतों के बारे में एसडीएम से शिकायत की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।  धनखड़ ने कहा कि पुलिस नियंत्रण कक्ष को शुक्रवार तड़के महिला की बेटी का फोन आया जिसने कहा कि उसकी मां ने किसी जहरीले पदार्थ का सेवन किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘जब हम वहां पहुंचे तो महिला की मृत्यु हो चुकी थी। घटना के समय, उसका 10 साल का बेटा और 15 साल की लड़की घर पर थे, जबकि उसका पति, जो सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करता है, ड्यूटी पर था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मौके से, हमने एक सुसाइड नोट और पास में रखे एक मोबाइल फोन से एक वॉयस रिकॉर्डिंग बरामद की। महिला ने पूरे मामले में एसडीएम कार्यालय के छह कर्मचारियों और एसडीएम कार्यालय के बाहर बैठने वाले कुछ टाइपिस्टों को दोषी ठहराया है।’’ धनखड़ ने कहा कि आगे की जांच जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here