मंदिर में पूजा अर्चना करने गयी महिला के साथ हुआ दुष्कर्म विपक्ष ने सरकार को घेरा

0
483
gang-raping
gang-raping

बदायूं |  उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में मंदिर में पूजा-अर्चना करने गयी एक आंगनबाड़ी सहायिका की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। इस मामले में मंदिर के महंत समेत तीन लोगों के खिलाफ सामूहिक बलात्कार और हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

ये भी पढ़े :कालाधन मंत्री 2 पूर्व सीएम पर संकटCS और गृह विभाग के ACS की चुनाव आयाेग में पेशी आज 

विपक्षी दलों ने इस घटना को ‘निर्भया कांड’ से जोड़ते हुए प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को घेरा है। वहीं, इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में संबंधित थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने बुधवार को बताया कि गत रविवार को उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव में मंदिर गयी 50 वर्षीय एक महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई।

ये भी पढ़े :MP में तबादलों पर मंथन शिक्षकों के स्थानांतरण की फिर से नई नीति बनेगी

उन्होंने बताया कि परिजन ने मंदिर के महंत सत्य नारायण और उसके दो साथियों पर बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया है उन्होंने कहा कि इस आधार पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनमें से दो लोगों को मंगलवार रात गिरफ्तार कर लिया गया उन्होंने बताया कि आरोपी महंत फरार है, उसे गिरफ्तार करने के लिए चार दल बनाए गए हैं।

 

शर्मा ने बताया कि इस मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में थाना प्रभारी को निलम्बित कर दिया गया है उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला से बलात्कार की पुष्टि हुई है और रिपोर्ट में गुप्तांग में चोट के निशान तथा पैर की हड्डी टूटी पाई गई है इस बीच, जिलाधिकारी कुमार प्रशांत और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा पीड़ित परिवार से मुलाकात करने के लिए उनके गांव गए।

जिलाधिकारी ने संवाददाताओं से कहा, ‘महिला आंगनवाड़ी सहायिका थी। उसके परिवार को जो मदद होगी हम देंगे घटना को निर्भया कांड जैसा बताए जाने के बीच, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर मेडिकल विशेषज्ञों से राय ली जा रही है, उससे पहले इसे किसी भी घटना से जोड़ना गलत होगा।

उसकी मां पिछले रविवार की शाम गांव के ही मंदिर में पूजा अर्चना करने गई थी और रात करीब 11 बजे मंदिर का महंत दो अन्य लोगों के साथ उसके घर आया और उसकी मां का शव रख दिया महिला के बेटे ने कहा कि घर के लोग महंत सत्य नारायण और उसके साथ आए लोगों से कुछ पूछ पाते, उससे पहले ही वे यह कहकर चले गए कि मन्दिर से घर लौटते समय महिला रास्ते में एक सूखे कुएं में गिर गई थी और उसकी चीख-पुकार सुनकर उन्होंने उसे कुएं से बाहर निकाला और घर लेकर आए हैं।

महिला के बेटे का कहना है कि पुलिस को घटना की सूचना सोमवार की सुबह दी गयी थी और परिजन इसे पहले ही बलात्कार और हत्या का मामला बता रहे थे लेकिन पुलिस ने पोस्टमार्टम के आधार पर कार्रवाई की बात कहते हुए शव को मंगलवार को पोस्टमार्टम के लिए भेजा ।

इस बीच यह मुद्दा राजनीतिक रंग लेने लगा है। प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने इस घटना पर सरकार को घेरते हुए एक ट्वीट में कहा, ‘यूपी के बदायूं में पूजा करने गई 50 वर्षीय आंगनवाड़ी सहायिका के साथ गैंगरेप और फिर उसके बाद उसकी निर्मम हत्या ने संपूर्ण मानवता को शर्मसार कर दिया है।’

पार्टी ने इसी ट्वीट में कहा ‘ डूब मरें सत्ताधीश जो महिला सुरक्षा के सिर्फ झूठे दावे किया करते हैं। दोषियों को जल्द से जल्द सख्त सजा दिला कर न्याय किया जाए।’कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा है

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here