पेट्रोल, डीजल फिर महंगा , प्रदेश में कांग्रेस का महंगाई के खिलाफ हल्लाबोल

0
172
diesel rates reduced by 15 paise per liter
diesel rates reduced by 15 paise per liter

भोपाल : एक दिन की राहत के बाद आज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर बढ़ोतरी देखने को मिली है। देशभर के कई शहरों में पेट्रोल जहां 100 रुपए के पार चल रहा है, वहीं डीजल भी अब 100 रुपए की करीब पहुंच चुका है। देश भर में इस समय पेट्रोल-डीजल की कीमत फिलहाल रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच चुकी है। राजस्थान के श्रीगंगानगर पेट्रोल 106 के पार पहुंच चुका है। ऐसे में कांग्रेस पार्टी इसका सियासी फायदा लेने से नहीं चूक रही है।

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता आज देश भर पेट्रोल पंपों के पास सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करेंगे। कांग्रेस संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, महासचिव हरीश रावत, प्रवक्ता पवन खेड़ा समेत कई नेता दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में पेट्रोल पंपों के निकट सांकेतिक विरोध प्रदर्शन में शामिल होंगे। साथ ही इस सांकेतिक विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी शामिल होंगे

 

 

 प्रमुख शहरों में आज डीजल का भाव 

  • श्रीगंगानगर 106.94 99.8
  • अनूपपुर 106.59 97.74
  • रीवा 106.23 97.41
  • परभणी 103.14 93.78
  • इंदौर 104.08 95.44
  • जयपुर 102.44 95.67
  • दिल्ली 95.85 86.75
  • मुंबई 101.04 94.15
  • चेन्नई 97.19 91.42
  • कोलकाता 95.8 89.6
  • भोपाल 104.01 95.35
  • रांची 92.08 91.58
  • बेंगलुरु 99.05 91.97
  • पटना 97.95 92.05
  • चंडीगढ़ 92.19 86.4
  • लखनऊ 93.09 87.15

 

दिल्ली में आज पेट्रोल डीजल का भाव

पेट्रोल की कीमत में आज प्रति लीटर 29 पैसे और डीजल में 28 पैसे की बढ़ोतरी की गई है। दिल्ली में आज पेट्रोल 95.85 रुपए प्रति लीटर भाव हो गया है, वहीं डीजल का भाव भी डीजल 86.75 रुपए प्रति लीटर हो गया है। 23 दिनों में ही पेट्रोल 5.53 रुपए महंगा हो चुका है, जबकि डीजल 5.97 रुपए महंगा हो चुका है।

पेट्रोल व डीजल की कीमत में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका भाव करीब दोगुना हो जाता है। अगर केंद्र सरकार की एक्साइज ड्यूटी और राज्य सरकारों का वैट हटा दें तो डीजल और पेट्रोल का रेट लगभग 27 रुपए लीटर रहता, लेकिन चाहे केंद्र हो या राज्य सरकार, दोनों किसी भी कीमत पेट्रोल डीजल पर से टैक्स नहीं हटा सकती है, क्योंकि राजस्व का एक बड़ा हिस्सा यहीं से आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here