भांडेर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस, बीजेपी और बसपा का रोमांचक मुकाबला, जानिए कैसे

0
62
BJP,BSP,Congress
BJP,BSP,Congress

दतिया। मध्यप्रदेश के दतिया जिले की भांडेर सीट पर उपचुनाव (By-Election) होने वाले है। इस विधानसभा क्षेत्र में रोमांचक मुकाबला देखने को मिलेगा। इस उपचुनाव (By-Election) के लिए सभी पार्टी बहुत जोरो शोरो से तैयारी में लगी हुई है। क्योंकि ऐसा माना जाता  है की भांडेर क्षेत्र से एक बार जो चुनाव जीत जाता है, वह दूसरी बार नहीं जीत पता। इसी मिथक के चलते कांग्रेस ने अपनी तरफ से एक वक़्त के मशहूर नेता फूलसिंह बरैया को अपना उम्मीदवार बनाया है, तो बसपा ने कांग्रेस के गृहमंत्री रह चुके महेंद्र बोध्द को अपना प्रत्याशी बनाकर बराबर की टक्कर देने की कोशिश की है।

अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित भांडेर विधानसभा क्षेत्र में एक रोमांचक मुकाबला देखने को मिलेगा।

ये भी पढ़े : बढ़ती रेप की घटनाओं के बाद हर लड़की का सवाल “Where a Girl is Safe”

भांडेर सिर्फ डॉ. कमलापत आर्य 2 बार जीते  

दरअसल एक व्यक्ति को छोड़कर, जो भी व्यक्ति एक बार यहां विधायक बना वह दूसरी बार चुनाव नहीं जीत पाया। इस मामले में केवल डॉ. कमलापत आर्य ऐसे नेता रहे जो दो बार जीते। इसी के चलते अब उपचुनाव में भाजपा की रक्षा संतराम सरोनिया और कांग्रेस के फूलसिंह बरैया का भविष्य क्या होगा।

इसे लेकर हर किसी के मन में दिलचस्पी बानी हुई है।

ये भी पढ़े : 24 घंटों में कोविड-19 के 72,049 नए मामले, 986 मौतें

बरैया की टिकट से नाराज होकर बौद्ध ने बसपा का दामन थामा है

इस दिलचस्पी की वजह है कि दोनों ही उम्मीदवार एक एक बार यहां से विधायक रहे हैं। 1962 से लेकर 2018 तक यहां पर 14 चुनाव हुए हैं। यहां से कमलापत कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियों से विधानसभा में पहुंच चुके हैं। करीब अठारह महीने पहले कांग्रेस के टिकट पर भारी मतों से जीतीं सरोनिया अब भाजपा के टिकट पर मैदान में हैं।

बरैया की टिकट से नाराज होकर बौध्द ने बसपा का दामन थामा है।

ये भी पढ़े : विधानसभा से टिकट ना मिलने से नाराज़ कांग्रेस नेता रिंकू मावई ने दिया इस्तीफा

इस उपचुनाव (By-Election) में तीनों उम्मीदवारो में होगा कड़ा मुकाबला  

इन तीनों पूर्व विधायकों के बीच विधायक बनने के लिए कड़ा मुकाबला होने की संभावना है। बौद्ध के चलते बरैया की राह कुछ कांटों भरी हो गई है । 2013 का चुनाव जीते भाजपा के घनश्याम पिनोरिया की 2018 में सर्वे के आधार पर भाजपा ने टिकट काट दी थी।

रजनी प्रजापति को अपना उम्मीदवार बनाया और वह बुरी तरह से चुनाव हार गईं।

ये भी पढ़े : बीजेपी ने की अपने प्रत्याशियों की फाइनल लिस्ट जारी

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप  

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here