MP तैयार कोरोना वैक्सीनेशन के लिए , राजधानी में इन जगहों पर Dry Run शुरू

0
96
corona vaccination
corona vaccination

भोपाल: मध्य प्रदेश में कोविड-19 की वैक्सीनेशन की तैयारियों को परखने के लिए राज्य में Dry Run की शुरुआत हो गई है, जो कि 11 बजे तक चलेगा. राजधानी भोपाल के 3 पॉइंट पर वैक्सीनेशन ड्राइव को लेकर मॉकड्रिल किया जा रहा है. जिसके लिए गोविंदपुर डिस्पेंसरी, जेके अस्पताल कोलार और गांधीनगर हेल्थ सेंटर को चुना गया है. इन तीनों सेंटर पर 75 स्वास्थ्यकर्मियों को एसएमएस भेजकर बुलाया गया है. Dry Run को सफलता पूर्वक अंजाम दिया जा सके, इसके लिए जिला प्रशासन की तरफ से भी सभी तैयारियां भी पूरी कर ली गई हैं|

इससे पहले देश के चार राज्यों असम, आंध्र प्रदेश, गुजरात और पंजाब में कोविड-19 वैक्सीन का ड्राय रन 28-29 दिसंबर को हुआ था. गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को कोविड वैक्सीनेशन की तैयारियों को पुख्ता करने और टीकाकरण अभियान शुरू करने से पहले व्यवस्थाओं के ट्रॉयल के लिए ड्राय रन कराने का निर्देश जारी किया था|

इस ड्राय रन के लिए विस्तृत चेक लिस्ट केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तैयार की है. इसे संबंधित राज्यों के साथ पहले ही साझा किया जा चुका है. ड्राय रन शुरू करने से पहले वैक्सीनेशन के काम में लगने वाले कर्मचारियों के लिए स्पेशल ट्रेनिंग वर्कशॉप का आयोजन भी कराया गया था. इसके अलावा को-विन ऐप की भी जांच-परख की गई कि यह ठीक से काम कर रहा है या नहीं|

 

मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन ड्राइव में शामिल होने वाले कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जा चुकी है. अब इन तैयारियों को परखने की पहल ड्राय रन के जरिए हो रही है, क्योंकि वैक्सीन कभी भी आ सकती है. ड्राय रन के जरिए वैक्सीनेशन के काम में लगने वाले स्टाफ की तैनाती, वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए कोल्ड चेन की व्यवस्थाओं, ट्रांसपोर्टेशन इत्यादि का परीक्षण किया जाएगा. ताकि जब रियल वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू हो तो किसी प्रकार की दिक्कत पेश न आए. वैक्सीनेशन के प्रोटोकॉल और इनके पालन के तरीके को भी मॉकड्रिल में परखा जाएगा|

यह ​किसी बड़े टीकाकरण अभियान को शुरू करने से पहले उसकी रिहर्सल की तरह है. इसमें कोविड-19 वैक्सीन आने के बाद इसे किस तरह से टीका केंद्रों तक पहुचाया जाएगा, लोगों को कैसे मैनेज किया जाएगा, इसकी क्या तैयारियां होनी हैं? इन तमाम चीजों का परीक्षण मॉकड्रिल में होगा. इसके जरिए यह भी देखा जाएगा कि वैक्सीनेशन के दौरान क्या-क्या अड़चनें आ सकती हैं और उन्हें किस तरह से दूर किया जाना चाहिए. मॉकड्रिल से जो कमियां निकलकर सामने आएंगी उन्हें रियल वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू होने से पहले दूर कर लिया जाएगा. ड्राय रन में वास्तविक वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं होता है, वैक्सीन को छोड़कर इससे जुड़ी सभी प्रक्रियाओं का वास्तविक आधार पर परीक्षण किया जाता है|

जिन सेंटरों में वैक्सीन लगाई जानी है उनमें तीन कमरे होंगे. पहला कमरा वेटिंग रूम होगा, जहां वेरिफिकेशन की प्रक्रिया होगी. दूसरे कमरे में वैक्सीन लगाई जाएगी और तीसरा कमरा ऑब्जर्वेशन रूम होगा. जहां पर वैक्सीन लगने के बाद लाभार्थी को कुछ देर रुकना होगा, ताकि किसी तरह की दिक्कत होने पर चिकित्सकीय सहायता दी जा सके. कोविड वैक्सीनेशन ड्राइव के लिए हर साइट सेंटर पर पांच लोग रहेंगे|

 

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here