kisan बिल को लेकर बोले सिंधिया 70 साल बाद मिलने जा रही आजादी,

0
399
Scindia and Kah Kamal Nath
Scindia and Kah Kamal Nath

भोपाल। केंद्रीय कृषि बिल को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि यह बहुत ही अग्रणी कदम किसानों के लिए मोदी जी ने उठाया है, 70 साल के बाद किसानों को आजादी मिलने जा रही है। राजनीतिक दल किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं, समर्थन मूल्य आगे भी लागू रहेगा।

बता दें कि आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती है, इस अवसर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। वहीं महा जनसंपर्क अभियान को लेकर सिंधिया ने कहा कि जनसंपर्क मानवता को लेकर महत्वपूर्ण अंग है, जनता के साथ मिलकर काम कर अभिलाषा पर खरे उतरना ही बीजेपी का सिद्धांत है। इस दौरान मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी मौजूद रहे।

बता दें कि कृषि सुधार संबंधित 3 बिल केंद्र सरकार ने पास किया है जिसे​ विपक्ष केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहा है, और इस बिल से मंडी व्यवस्था के नष्ट होने का आरोप लगा रहे हैं। विपक्षी दलों को आरोप है कि इससे उद्योगपतियों को लाभ होगा, वहीं सत्ता पक्ष का कहना है कि किसानों को अपनी फसल बेचने का एक अतिरिक्त विकल्प मिल जाएगा। भोपाल। केंद्रीय कृषि बिल को लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि यह बहुत ही अग्रणी कदम किसानों के लिए मोदी जी ने उठाया है, 70 साल के बाद किसानों को आजादी मिलने जा रही है। राजनीतिक दल किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं, समर्थन मूल्य आगे भी लागू रहेगा।

 बता दें कि आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती है, इस अवसर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। वहीं महा जनसंपर्क अभियान को लेकर सिंधिया ने कहा कि जनसंपर्क मानवता को लेकर महत्वपूर्ण अंग है, जनता के साथ मिलकर काम कर अभिलाषा पर खरे उतरना ही बीजेपी का सिद्धांत है। इस दौरान मंत्री नरोत्तम मिश्रा भी मौजूद रहे।

बता दें कि कृषि सुधार संबंधित 3 बिल केंद्र सरकार ने पास किया है जिसे​ विपक्ष केंद्र सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहा है, और इस बिल से मंडी व्यवस्था के नष्ट होने का आरोप लगा रहे हैं। विपक्षी दलों को आरोप है कि इससे उद्योगपतियों को लाभ होगा, वहीं सत्ता पक्ष का कहना है कि किसानों को अपनी फसल बेचने का एक अतिरिक्त विकल्प मिल जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here