सिंधिया के गढ़ में कांग्रेस की सेंधमारी , ग्वालियर पूर्व में BJP को किस कारणों से मिली हार जानिए 

0
781
Congress's breach in Scindia's stronghold, Gwalior
BJP

भोपाल | ग्वालियर जिले में आने वाली ग्वालियर पूर्व विधानसभा (pre assembly) सीट पर इस बार सबसे कम  प्रत्याशी ने जीत दर्ज की है. यहां 32 राउंड की मतगणना के बाद सुबह नतीजे घोषित किए गये. कांग्रेस ( CONGRESS)  के सतीश सिकरवार( Satish sikarwar )ने बीजेपी ( BJP)  के मुन्ना लाल गोयल (Munna Lal Goyal ) को 8555 वोटों के अंतर से हराकर जीत हासिल की है |

2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस  ( CONGRESS) के मुन्ना लाल गोयल (Munna Lal Goyal )  ने बीजेपी ( BJP) के सतिश सिकरवार  ( Satish sikarwar )  को हराया था. ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के वर्चस्व वाली इस सीट पर 12 उम्मीदवार मैदान में खड़े थे. जिनके भाग्य का फैसला 32 राउंड की मतगणना में हुआ. 1 लाख जनता ने 66,787 वोट दिए थे | 

  1. CONGRESS  
 

1. पार्षद रहते हुए अपने वार्डो में बेहतर काम करना न केवल अपने वार्ड बल्कि अन्य इलाके के लोगो की मदद के लिए तैयार रहना. क्षेत्र बेहतर छवि बनी है जीत की असल वजह.

2. बीजेपी से नाराज नेताओं का साथ मिलने से जनता का साथ बना रहा. 

3. पिछले चुनाव बीजेपी प्रत्यासी के तौर पर इसी सीट पर चुनाव लड़ने का अनुभव है. हालांकि पिछली बार कुछ वोटों के अंतर से ही चुनाव हारे थे. दल बदलने से कांग्रेस वोट उनकी झोली में आ गिरे. 

  1.  BJP


1. दल बदलू का नारा ग्वालियर जिले में खूब गुंजा, जिस वजह से उनकी छवि पर असर पड़ा. जिसका खामियाजा बीजेपी प्रत्याशी को हार के रूप में भुगतना पड़ा.

2. स्थानीय बीजेपी नेताओं के भितरघात का नुकसान मुन्ना लाल गोयल को इस उप चुनाव में जीत से दूर गया. जनता की नाराजगी ने उनके वोट में अंतर बनाया. 

3. व्यापारी वर्ग इलाको में कम मतदान होने से मुन्ना लाल गोयल के वोटों में कमी आई. जो उनकी हार का बड़ा कारण है. 
Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here