मध्यप्रदेश में अब हर गोली पर होगा चलाने वाले का नाम, पता…….

0
399
gun license
मध्य प्रदेश में जल्द ही बंदूकों के बुलेट्स पर क्यूआर कोड लगाए जाएंगे। भिंड जिला पुलिस अधीक्षक की पहल पर देशभर में पहली बार बुलेट्स (bullets) पर क्यूआर कोड (QR code) लगवाने का काम शुरू किया गया है। आने वाले समय में सभी शस्त्र लाइसेंस धारियों को क्यूआर कोड वाले बुलेट्स (bullets)  ही दिए जाएंगे। बारकोड स्कैन करते ही बुलेटधारी व्यक्ति की जानकारी सामने आ जाएगी। इससे बंदूकों से होने वाले अपराधों पर भी काफी हद तक लगाम लग सकेगी।
यह भी पढ़े :  मध्यप्रदेश में दमोह की हवा सबसे ज्यादा खराब

 

दरअसल चंबल क्षेत्र के लोगों को सबसे ज्यादा बंदूकों का शौक रहा है। अकेले भिंड जिले में ही 22 हजार चार सौ लाइसेंसी हथियार मौजूद हैं। ऐसे में यहां पर आए दिन बंदूकों से आपराधिक घटनाएं होती रहती हैं। कभी किसी की हत्या तो कई लोग घायल होते रहते हैं। इसी के चलते भिंड जिले के वर्तमान एसपी मनोज कुमार सिंह ने बुलेट्स पर क्यूआर कोड लगाने का प्रस्ताव शासन को भेजा।

यह भी पढ़े : पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को शिवराज में नज़र आए शाहरुख़ और सलमान

 

प्रत्येक कारतूस पर अलग यूनिक आइडेंटीफिकेशन नंबर (यूआइएन) रहेगा। इसके साथ इस क्यूआर कोड में शस्त्र लाइसेंसी का नाम, पुलिस स्टेशन का नाम, लाइसेंस नंबर, लाइसेंस की वैद्यता कब से कब तक, वर्तमान पता, शस्त्र नंबर, शस्त्र और कॉन्टैक्ट नंबर का पूरा ब्योरा रहेगा। क्यूआर कोडिंग के बाद पुलिस उन कारतूसों को संबंधित लाइसेंसधारी को वापस देगी।

 

यह भी पढ़े : कांग्रेस प्रत्याशी सतीश सिकरवार ने झांसी रोड और मुरार टीआई को हटाने की मांग की

सिर्फ एक स्कैन और मिल जाएगा पूरा ब्योराएसपी मनोज कुमार सिंह का कहना है जिले के लाइसेंसधारी के पास मौजूद प्रत्येक कारतूस पर क्यूआर कोडिंग की जाएगी। इसके जरिए प्रत्येक कारतूस का अलग यूआइएन होगा। ऐसे में यदि हिंसा में हथियारों का इस्तेमाल हुआ तो खोखे पर मौजूद क्यूआर कोड की सिर्फ एक स्कैनिंग पुलिस के सामने कारतूस मालिक का पूरा ब्योरा रख देगी। इससे गोली चलाने वाला आसानी से पकड़ा जाएगा।

यह भी पढ़े : MP में अब तक के सबसे महंगे चुनाव ,3 करोड़ हर सीट पर खर्च

 

फिलहाल मालनपुर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित कंपनी से प्रयोग के तौर पर बुलेट्स पर क्यूआर कोड लगवाए गए हैं। मेटल बुलेट्स पर इंफ्रारेड के जरिये तो अन्य बुलेट्स पर परमानेंट इंक से क्यूआर कोड लगाया जाएगा, जिसे मिटाया नहीं जा सके।

 

मोबाइल पर खबर पाने के लिए यहाँ क्लिक करे  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here