बुजुर्गो, दिव्यांगों और कोरोना मरीजों के लिए, जानिए क्या है मतदान की घर पहुंच सेवा

0
85
voting

सांवेर। सांवेर विधानसभा उपचुनाव के लिए वैसे तो वोटिंग (Voting) 3 नवंबर को होगी। इसमें दो लाख 70 हजार से ज्यादा मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर चुनाव मैदान में खड़े 13 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। लेकिन कोरोनाकाल में हो रहे इस चुनाव में पहली बार कुछ नया देखने को मिला है। गुरुवार को वोटर के बजाय वोटिंग (Voting) दल मतपेटी लेकर मतदान करवाने मतदाता के घर पहुंचे।

यह नजारा पूरे सांवेर विधानसभा क्षेत्र में नजर आया।

ये भी पढ़े : कोविड-19 के पिछले 24 घंटों में 54,366 नए मामले, आंकड़े 77 लाख पार 

ऐसा पहली बार हुआ

वोट डालने के बाद 85 वर्षीय लीलाबाई ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि ऐसा पहली बार हुआ है, जब कहीं जाना नहीं पड़ा। ना ही लाइन में लगना पड़ा। यह बहुत अच्छा काम है। निर्वाचन आयोग के आदेश के बाद सांवेर विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे अलगअलग दल ने बुजुर्गों, दिव्यांगों और कोरोना पॉजिटिव के घर पहुंचकर वोटिंग करवाई। इन लोगों ने वैलेट पेपर का उपयोग कर अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

मतदान की प्रक्रिया पूरी तरह से उसी प्रकार से पूरी करवाई गई।

ये भी पढ़े : इमरती देवी बोली कमलनाथ की मां और बहन होंगी बंगाल की आइटम

100 साल की बुजुर्ग महिला ने दिया वोट 

वृद्धा राजकुमारी ने कहा कि मेरी उम्र तो 100 साल के करीब है। यदि मतदान दल घर पर नहीं आता तो मैं वोट डालने वहां नहीं जाती। मुझसे अब ना तो लाइन में लगा जाता है और ना ही मोटर साइकिल पर बैठ पाती हूं। ऐसे में वहां तक जाकर वोट देना मेरे लिए मुश्किल था।

यह बहुत अच्छी व्यवस्था रही, इसी कारण मैं अपना वोट दे पाई।

ये भी पढ़े : बीजेपी को सुरखी और सांची सीट पर नजर आ रहा कठिन मुकाबला, जानिए क्यों

29 अक्टूबर तक चलेगी ये प्रक्रिया 

चुनाव आयोग द्वारा बुजुर्गों, दिव्यांगों और कोरोना मरीजों को मतदान के लिए विशेष सुविधा उपलब्ध कराई गई है। गुरुवार को टीम ऐसे मतदाताओं के घर पहुंची जिसके घर पर कोई बुजुर्ग, दिव्यांग,या कोरोना मरीज था और मतदान कराया। डाक मतपत्र के जरिए मतदान कराने की यह प्रक्रिया 29 अक्टूबर तक चलेगी।

सांवेर विधानसभा क्षेत्र में 9 से 13 अक्टूबर तक मतदाताओं से सहमति लेकर घर जाकर फार्म भराए।

ये भी पढ़े : भू-संपत्ति के मुद्रीकरण की समीक्षा में जुटे रेलवे और रक्षा मंत्रालय

80 से अधिक आयु वाले बुजुर्गो, और कोरोना मरीजों के लिए अलग से टीम बनाई  

डिप्टी कलेक्टर अंशुल खरे ने बताया कि 80 वर्ष से अधिक आयु के एक हजार 483 मतदाताओं ने सहमति दी। इसी तरह 637 दिव्यांग और कोविड प्रभावित और संदिग्ध मरीजों में से 8 मतदाताओं ने सहमति दी। इसे मिलाकर कुल 2 हजार 128 मतदाताओं के द्वारा डाक मतपत्र के आधार पर मतदान की सहमति दी गई है।

उन्होंने बताया कि कोरोना मरीजों से मतदान के लिए अलग से टीम बनाई गई है।

ये भी पढ़े : नवरात्री का छठा दिन, माँ कात्यायनी को अधिष्ठात्री देवी भी कहते है

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here