कमलनाथ ने गरीबों की नहीं, हीरो-हीराइनों की चिंता की: डाॅ नरोत्तम मिश्रा

0
54
narottam mishra kamalnath imarti devi dabra

भोपाल। रविवार को डबरा विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी मंत्री इमरती देवी (imarti devi) के समर्थन में आयोजित जनसभाओं को संबोधित करते हुए प्रदेश के गृह मंत्री डाॅ नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) ने कहा कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (kamalnath) को प्रदेश की गरीब जनता से कोई सरोकार नहीं था। उन्होंने कभी प्रदेश के लोगों की चिंता नहीं कीं। उन्हें तो मुंबई के हीरो-हीराइनों की ज्यादा चिंता थी। उन्हें तो उनके साथ खड़े होकर फोटो खिंचवाना ही अच्छा लगता है। वे क्या किसी गरीब, किसान का भला करेंगे।

यह भी पढ़े : कांग्रेस प्रत्याशी सतीश सिकरवार ने झांसी रोड और मुरार टीआई को हटाने की मांग की

गृह मंत्री डाॅ. नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) ने कहा कि यह उपचुनाव संपूर्ण प्रदेश के विकास के लिए हो रहे हैं। यह उपचुनाव सरकार बनाने के लिए नहीं, बल्कि सरकार चलाने का उपचुनाव है। प्रदेश के विकास का उपचुनाव है। अभी प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और सरकार को बचाए रखने के लिए भाजपा प्रत्याशी को चुनाव जीताना है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा 2018 में प्रदेश की जनता को झूठे वचन देकर कुर्सी हथिया ली, लेकिन कमलनाथ तो 15 माह तक सिर्फ ट्रांसफर उद्योग ही चलाने में लगे रहे। सरकार चलाना उनके वश की बात नहीं थी। अब कांग्रेस को वोट देकर विधायक चुनना है और भाजपा को वोट देकर मंत्री चुनना है।

यह भी पढ़े : MP में अब तक के सबसे महंगे चुनाव ,3 करोड़ हर सीट पर खर्च

यहां तो तबादला उद्योग जमकर चला

गृह मंत्री ने कहा कि कमलनाथ ने धोखे से प्रदेश में सरकार बनाई तो प्रदेश की जनता ने सोचा प्रदेश में कोई उद्योग-धंघे स्थापित होंगे। इनमें युवाओं को रोजगार मिलेगा, लेकिन दुर्भाग्य से प्रदेश में उद्योग तो नहीं लगे परंतु ट्रांसफर उद्योग जमकर चला। जब तक कमलनाथ मुख्यमंत्री रहे हर दिन तबादला आदेश जारी हुए। रविवार के दिन भी मंत्रालय खुलवाकर अधिकारियों के तबादले करते रहे। इन्होंने 15 माह तक वल्लभ भवन में बैठकर दलालों को संरक्षण दिया और विकास एवं भाजपा सरकार की योजनाओं को बंद करके मजे लूटे। इन्होंने प्रदेश के गरीबों की चिंता तो कभी नहीं की, लेकिन सलमान खान, कैटरीना कैफ और जैकलिन की चिंता खूब की।

यह भी पढ़े :  मध्यप्रदेश में अब हर गोली पर होगा चलाने वाले का नाम, पता……. 

एक तरफ मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने गांव, गरीब, किसान एवं महिलाओं के सम्मान की चिंता करने का काम किया और उनके लिए कई योजनाएं शुरू कीं, तो वहीं कमलनाथ ने इन वर्गों के लिए चल रही योजनाओं को ही बंद कर दिया और इनका पैसा आईफा अवार्ड जैसे आयोजनों में फूंकने की तैयारी की। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here