मध्यप्रदेश में बिजली सप्लाई का नया रिकार्ड कायम, इतिहास में इतनी बिजली पहेली बार हुई सप्लाई

0
205
electricity

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के इतिहास में 10 नवम्बर को बिजली (electricity) सप्लाई का नया रिकार्ड कायम हुआ। इस दिन 2789.55 लाख यूनिट बिजली की सप्लाई पूरे प्रदेश में की गई। प्रदेश में पिछले पांच दिनों से बिजली की सप्लाई लगभग 2700 लाख यूनिट से अधिक हो रही है। एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी के प्रबंध संचालक श्री आकाश त्रिपाठी ने जानकारी दी कि इससे पूर्व 21 नवम्बर 2018 को प्रदेश में बिजली की एक दिन की सर्वाधिक सप्लाई 2658.69 लाख यूनिट हुई थी। ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अधिकतम विद्युत मांग की सफलतापूर्वक आपूर्ति पर सभी अधिकारियों-कर्मचारियों के कार्यों की सराहना की है।

ये भी पढ़े : उपचुनाव के नतीजों के 24 घंटे बाद ही सरकार एक्शन में, IAS को दीपावली गिफ्ट

बिजली की मांग 14 हजार मेगावाट के ऊपर –

प्रदेश में दो दिनों से बिजली (electricity) की मांग 14 हजार मेगावाट के ऊपर पहुंची। श्री त्रिपाठी ने जानकारी दी है कि 10 नवम्बर को प्रदेश में बिजली की मांग 14 हजार 147 मेगावाट दर्ज हुई। इस रबी सीजन में पहली बार बिजली की मांग 14 हजार मेगावाट से ऊपर दर्ज हुई है, जो बढ़ कर 11 नवम्बर को प्रात:काल 14 हजार 190 मेगावाट बिजली तक पहुंच गई। उन्होंने जानकारी दी कि प्रदेश में इस रबी सीजन में दो माह पूर्व ही बिजली की मांग 14 हजार मेगावाट से ऊपर पहुंच गई, जबकि पिछले रबी सीजन में बिजली की मांग जनवरी-फरवरी माह में शीर्षतम स्तर पर पहुंचती थी।

ये भी पढ़े : PUBG Mobile India जल्द होगा लॉन्च, कंपनी ने कर दिया कन्फर्म 

प्रदेश के पश्चिम क्षेत्र में बिजली की मांग 5744 मेगावाट –

प्रदेश के पश्चिम क्षेत्र में बिजली (electricity) की 5744 मेगावाट की मांग। वर्तमान में प्रदेश के पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (इंदौर व उज्जैन) में सर्वाधिक 5,744 मेगावाट, मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (भोपाल व ग्वालियर) में बिजली की अधिकतम मांग 4,741 मेगावाट एवं पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (जबलपुर, सागर व रीवा) में 3,663 मेगावाट दर्ज हुई।

ये भी पढ़े : एमपी में कांग्रेस की हार के बाद मंथन शुरु, कमलनाथ छोड़ सकतें है यह पद

प्रदेश में बिजली सप्लाई कैसे हुई –

प्रदेश में 11 नवम्बर को जब बिजली (electricity) की मांग 14 हजार 147 मेगावाट दर्ज हुई, उस समय बिजली की सप्लाई में मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के ताप व जल विद्युत गृहों को उत्पादन अंश 3,450 मेगावाट, इंदिरा सागर-सरदार सरोवर-ओंकारेश्वर जल विद्युत परियोजना का अंश 436 मेगावाट, एनटीपीसी व नार्दन रीजन का अंश 3,955 मेगावाट, सासन अल्ट्रा मेगा पावर प्रोजेक्ट का अंशदान 1,349 मेगावाट व आईपीपी का अंश 1,334 मेगावाट रहा और बिजली बैंकिंग से 1,948 मेगावाट व अन्य स्त्रोत, जिनमें नवकरणीय स्त्रोत भी शामिल हैं, से प्रदेश को 1,676 मेगावाट बिजली प्राप्त हुई।

ये भी पढ़े : Shivraj Cabinet : कैबिनेट में छह पद खाली, मंत्री पद के दावेदार अनेक… 

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here