नए साल पर शिवराज कैबिनेट की पहली बैठक कोलार डैम पर हुई चर्चा

0
115

भोपालः मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नए साल की पहली कैबिनेट बैठक मंत्रालय की बजाए राजधानी भोपाल के पास कोलार डैम पर की. यह बैठक आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के रोड मैप पर केंद्रित रही. जिसमें सीएम ने सभी मंत्रियों से चर्चा कर प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम करने की बात कही. इस दौरान सभी मंत्रियों ने भी अपने-अपने विभागों का प्रजेंटेशन दिया|

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैठक में मंत्रियों से चर्चा करते हुए कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप के लिए हमें अर्थव्यवस्था एवं रोजगार और सुशासन पर स्पष्ट तरीके से काम करने की जरूरत हैं. मंत्री से लेकर प्रशासन के हर स्तर पर जिम्मेदारी तय की जाएगी और उसकी प्रत्येक स्तर पर सख्त मॉनिटरिंग

shivraj
shivraj

होगी. लोक सेवा प्रबंधन विभाग रोडमैप क्रियान्वयन में समन्वय करेगा. अन्य सभी विभाग सक्रिय भागीदारी करेंगे. सीएम ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाने के लिए हमें अभी से काम करना होगा.  मंत्रियों की जिम्मेदारी है कि वह जनता से जुड़े मुद्दों को अपने विभागों में शामिल कर उन पर प्राथमिकता से काम करें|

 

गृह विभागः सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से चर्चा करते हुए कहा कि माफियाओं के खिलाफ प्रदेश में चल रहा अभियान सराहनीय है. जबकि प्रदेश में लाया गया धर्म स्वातंत्र्य अध्यादेश आदेश बेटियों के लिए बहुत अच्छा है. सीएम ने कहा कि पत्थरबाजी के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई के लिए सरकार शीघ्र ही नया कानून लाएगी|

 

सड़कः मुख्यमंत्री ने आत्म निर्भर मध्य प्रदेश के लिए हर विभाग को काम करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि प्रदेश की सड़कों के विकास के लिये बेहतर विकास योजना एवं राजस्व वृद्धि के लिए 200 सड़कों का साइंटिफिक ट्रैफिक सर्वे किया जाए. ताकि अगले 6 माह में प्रदेश के सभी टोल प्लाजा का कम्प्यूटीकरण एवं फास्ट टैग के जरिये ऑटोमेशन हो सके |

नगरीय विकास एवं आवासः नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह चर्चा करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि हमें अब पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए समावेशी शहरी विकास की तरफ काम करना होगा. इसके लिए नगरीय निकायों के खजाने को दुरूस्त करने की दिशा में तेजी से काम करना चाहिए, ताकि प्रदेश का हर शहर विकसित हो सके|

वही स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मातृ और शिशु मृत्यु दर में कमी लाना हमारा पहला काम है. इसके लिए सरकारी विभागों का पुनर्गठन और बेहतर सेवा वितरण के लिए एक समन्वय तंत्र का निर्माण करना होगा ताकि बेहतर परिणाम मिल सके. जबकि प्रदेश में पैरा मेडिकल स्टॉफ सहित स्वास्थ्य विभाग में कर्मचारियों को बढ़ाने की दिशा में भी काम किया जाए. सीएम ने दोनों मंत्रियों से कहा कि स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिये अनुकूल परिस्थिति बनाना ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए|

मुख्यमंत्री ने सहकारिता और लोक सेवा प्रबंधन मंत्री अरविंद भदौरिया से विभागीय कामों की चर्चा करते हुए कहा कि सुशासन हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है. सुशासन का अर्थ है जनता से बिना लिए-दिए सेवाएं नियत समय अवधि में प्राप्त हो जाएं. उन्होंने कहा कि जनता किसी भी काम के लिए परेशान न हो, यह हमारी पहली जिम्मेदारी होनी चाहिए|

 

सीएम शिवराज ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा से बातचीत करते हुए कहा कि मालवा क्षेत्र में इस साल के अंत तक लगभग 02 हजार औद्योगिक इकाइयां शुरू हो जाएंगी, जिनसे एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. सीएम ने मंत्री के विभाग में चल रहे कामों की सराहना करते हुए कहा कि सूक्ष्म एवं लघु उद्यम विभाग लगातार हर जिले में अधिक से अधिक रोजगार लाने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है|

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को वन मंत्री विजय शाह ने बताया कि हमारे यहां के वन दूसरे राज्यों को शुद्ध वायु और ऑक्सीजन देते हैं. हाल ही में अंडमान निकोबार सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को पेड़ लगाने के लिए 500 करोड़ रूपए की राशि दी गई है. हमारे राष्ट्रीय उद्यानों में अब दोगुने पर्यटक “बफर में सफर” का आनंद ले रहे हैं. पेंच, बांधवगढ़ व सतपुड़ा नेशनल पार्क में “नाइट सफारी” चालू हो गई हैं. अमरकंटक, रामायण सर्किट, तीर्थकर सर्किट, ओंकार सर्किट, नर्मदा परिक्रमा, रूरल सर्किट एवं ट्राइबल सर्किट जैसे थीम सर्किट को भी विकसित करने का काम चल रहा है. जिससे प्रदेश के पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा|

वहीं हाल ही में मंत्रिमंडल में शामिल किए गए परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत से चर्चा करते हुए सीएम ने कहा कि राजस्व संबंधी कामों में सुधार लाने के लिए प्रदेशभर के सभी पटवारियों को लैपटॉप दिए जा रहे हैं. मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि सीमांकन के लिए अब “ब्लॉक चेन तकनीक” और “कोर्स पद्धति” का  भी उपयोग किया जाएगा. जबकि परिवहन विभाग में पब्लिक वाहनों में अब “पैनिक बटन” लगाए जा रहे हैं, जिससे आपात स्थिति में सहायता मिल सके. इसके कंट्रोल के लिए “व्हीकल लोकेशन कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर” बनाए जा रहे हैं.

नए साल की पहली बैठक करीब आठ घंटे से भी ज्यादा वक्त तक चली इस दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक-एक मंत्री से वन टू वन चर्चा की. सीएम ने कहा कि हर मंत्री का केवल एक ही टारगेट होना चाहिए अपने विभागों के कामों को तेजी से पूरा करना. हर विभाग का मंत्री अपने कामों में तेजी लाए ताकि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का सपना जल्द साकार हो|

बैठक के बाद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा बताया कि सभी विभागों के मंत्रियों से सीएम ने विस्तृत चर्चा की है. प्रदेश में मिलावटखोरों को रोकने के लिए माफिया पर चल रही कार्रवाई इसी तरह आगे भी जारी रहेगी. 20 जनवरी से 50 फीसदी छात्रों के साथ सभी कॉलेज की क्लासें लगनी शुरू होगी. मुख्यमंत्री हर दिन एक मंत्री के साथ चाय पर चर्चा करेंगे, जिसमें मंत्री के विभागीय कामों की चर्चा होगी. इसके अलावा. एक जैसे नेचर के विभागों के मंत्रियों के समूह बनाए जाएंगे. हर समूह में करीब 10 मंत्री होंगे  |

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here