शिवराज : कमलनाथ दिए हुए वचन भूल गए, उन्हें गाली देना याद रहा

0
100
Shivraj-Kamalnath

भोपाल। जब तक उपचुनाव पुरे नहीं हो जाते तब तक बीजेपी-कांग्रेस में आपसी बयानबाजी चलती ही रहेगी। कभी कोई किसी को कुछ कहेगा फिर दूसरा उसका पलटवार करेगा। लेकिन सबसे ज्यादा बयानी वॉर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj) और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बीच छिड़ी हुई है। इसी बयानी वॉर को जारी रखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज (Shivraj) ने कमलनाथ को फिर घेरे में ले लिया।

ये भी पढ़े : उमा भारती ने कांग्रेस को बताया कमलनाथ की सरकार गिरने की वजह

कमलनाथ ने दिए झूठे वचन –

मुख्यमंत्री शिवराज (Shivraj) ने कहा कमलनाथ-कांग्रेस ने 2018 के विधानसभा चुनाव में कई वचन दिए। उन्होंने वचन-पत्र बनाया और उस वचन-पत्र में किसानों की 2 लाख रूपए की कर्जमाफी, युवाओं को 4 हजार रूपए बेरोजगारी भत्ता, बेटियों को कन्यादान के लिए 51 हजार रूपए, बुजुर्गों-नि:शक्तजनों को पेंशन सहित कई वचन दे दिए। कमलनाथ ने कांग्रेस के इन वचनों को पूरा तो नहीं किया, बल्कि वचन देकर उन्हें भूल गए, लेकिन उन्हें गाली देना बखूबी याद रहा। कमलनाथ और उनके नेता हमें नंगा- भूखा कह रहे हैं, कमीना कह रहे हैं, नालायक कह रहे हैं और भी न जाने क्या-क्या कह रहे हैं।

ये भी पढ़े : बीजेपी सत्याग्रह – किसानो की मांगो को लेकर उनके साथ खेतो में बैठेंगे नेता

मामा शिवराज उतरेंगे किसानो के सिर की पोटली –

मुख्यमंत्री शिवराज (Shivraj) ने गुरूवार को सुवासरा विधानसभा के चंदवासा एवं बदनावर विधानसभा के भैंसोला में आयोजित और मांधाता विधानसभा के सुलगांव और नेपानगर विधानसभा के दाभिया (नावरा) में भी आयोजित जनसभाओं को संबोधित किया। मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि कांग्रेस ने प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया है। कमलनाथ ने प्रदेश के किसानों को 2 लाख रूपए कर्जमाफी का झुनझुना पकड़ा दिया, लेकिन उनका कर्जमाफ नहीं किया। इनके कारण किसान और ज्यादा कर्जदार हो गए हैं। किसानों ने कर्जमाफी के चक्कर में बैंकों का कर्जा नहीं भरा और अब उन्हें 18 प्रतिशत ब्याज देना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों चिंता मत करना उनके सिर पर रखी ब्याज की पोटरी को उनका मामा शिवराज उतरेगा। आपका मामा आपका हर दुख दूर करेगा।

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here