मेहगांव विधानसभा क्षेत्र में तीन प्रमुख ब्राह्मण नेताओं में आखिर तकरार क्यों

0
167
congress
congress

भोपाल। मध्यप्रदेश में होने वाले 28 सीटों पर उपचुनाव के लिए लगभग सभी पार्टियां अपने अपने उम्मीदवार घोषित कर चुकी है। कांग्रेस ने भी होने वाले 28 सीटों पर उपचुनावों के लिए अधिकांश सीटों पर अपने प्रत्याशी तय कर दिए है। लेकिन मुरैना जिले के भिंड शहर की मेहगांव सीट पर तीन प्रमुख ब्राह्मण नेताओं में तकरार चल रही है।

ये भी पढ़े : आज मनाली पहुंच पीएम मोदी अटल टनल’का उद्घाटन करेंगे

मेहगांव में ब्राह्मणों का वर्चस्व –

मेहगांव में ब्राह्मण समाज का हमेशा से वर्चस्व रहा है। जब भी मेहगांव में चुनाव हुए है हमेशा ब्राह्मण उम्मदवारो को ही सीट दी गई है। बीजेपी हो या कांग्रेस 1990 के बाद हुए विधानसभा के आम चुनावों में हमेशा से ब्राह्मण नेताओ को ही चुना गया। 

उन्होंने अपना परचम भी लहराया।

सात बार हुए विधानसभा चुनाव में 3 बार भारतीय जनता पार्टी के ब्राह्मण नेता चुनाव जीते हैं। जिसमे से दो बार राकेश शुक्ला, और एक बार मुकेश चौधरी जीत का परचम लहरा चुके हैं।

पहले भी मेहगांव विधानसभा क्षेत्र से रामेश्वर दयाल दांतरे सहित कई ब्राह्मण नेता चुने जा चुके हैं।

ये भी पढ़े : मध्यप्रदेश में 3 नवम्बर को होगी वोटिंग, 10 नवम्बर को नतीज़े सामने आएंगे

कांग्रेस नेता ब्राह्मण मतदाताओं की बल पर जीतना चाहते है चुनाव – 

मेहगांव विधानसभा क्षेत्र में ब्राह्मण मतदाताओं की संख्या लगभग 55 से 60 हजार आंकी जा रही है। इस ब्राह्मण मतदाताओं की संख्या के बल पर पूर्व कांग्रेस के उपनेता प्रतिपक्ष राकेश चौधरी रह। 

अटेर के पूर्व विधायक हेमंत कटारे और ब्रजकिशोर शर्मा कांग्रेस का टिकट पाने की जद्दोजहद में लगे हुए हैं।

ये भी पढ़े : PM नरेंद्र मोदी ने दुनिया की सबसे लंबी टनल का उद्घाटन किया

मुकुल वासनिक कमलनाथ ने मेहगांव सीट के सभी दावेदारों से बात की 

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं मध्यप्रदेश के प्रभारी मुकुल वासनिक और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मेहगांव सीट से दावेदारी कर रहे सभी उम्मीदवारों से चर्चा की। मेहगांव की सीट पर टिकट को लेकर मामला इतना बढ़ गया है, की मेहगांव विधानसभा क्षेत्र में आने वाले 5 ब्लॉक के कांग्रेस अध्यक्षों को चर्चा के लिए भोपाल बुलाया गया।

ये भी पढ़े : कांग्रेस ने जारी की अपने उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट

ठाकुर और गुर्जर उम्मीदवार कर रहे मेहगांव टिकट पाने की कोशिश – 

ब्राह्मण नेताओं की आपसी तकरार के चलते, मेहगांव विधानसभा क्षेत्र में चुनाव लड़ने के लिए ठाकुर और गुर्जर उम्मीदवार भी टिकट पाने की कोशिश कर रहे है। जिसमे राहुल भदौरिया, राजेंद्र सिंह गुर्जर शामिल है।

भोपाल में यह दोनों उम्मीदवार भी चर्चा में शामिल रहे। 

ये भी पढ़े : HATHRAS में राहुल गाँधी और प्रियंका गांधी के आने के बाद लगी धार 144

राकेश चौधरी ने सिंधिया के आने से छोड़ी बीजेपी – 

पूर्व उपनेता प्रतिपक्ष राकेश चौधरी पहले भाजपा में भी रह चुके हैं लेकिन उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया की के बीजेपी में आने के बाद कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी।

फिर वह लगातार भिंड जिले में कांग्रेस के कार्यक्रम में लगातार सक्रियता से शामिल होते रहे हैं।

वहीँ हेमंत कटारे अटेर विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव में विधायक का चुनाव जीतने के बाद 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार और प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदोरिया से हुए मुकाबले में चुनाव हार गए थे। वहीँ उम्मीदवार बृजेंद्र शर्मा की महिलाओं में ऐसी कोई खास पकड़ नहीं है।

वह मात्र दो बड़े ब्राह्मण नेताओं की लड़ाई का फायदा उठाकर टिकट पाने की जुगाड़ में लगे हुए हैं। 

ये भी पढ़े : कमलनाथ ने BJP पर तंज कसते हुए कहा जिम्मेदार विपक्ष आज मौन क्यों है

मेहगांव विधानसभा के वर्तमान उम्मीदवार

जहां तक मेहगांव विधानसभा के वर्तमान उम्मीदवारों की बात करें। तो प्रदेश की सरकार में राज्य मंत्री भदौरिया भारतीय जनता पार्टी के संभावित उम्मीदवार हैं। वही योगेश सिंह नरवरिया को बहुजन समाज पार्टी का उम्मीदवार घोषित कर दिया है। 

वह लगातार चुनाव प्रचार में भी लगे हुए हैं। 

राकेश चौधरी की बात करें तो वह कांग्रेस से टिकट न मिलने की स्थिति में निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मेहगांव विधानसभा क्षेत्र से ताल ठोक सकते हैं।

जिससे कांग्रेस की मेहगांव से चुनाव जीतने की संभावनाएं पूरी तरह खत्म हो जाएंगी।

ये भी पढ़े : हाथरस केस में SIT की जांच हुई पूरी, मीडिया को पीड़िता के परिवार से मिलने की इजाजत

बीजेपी नेता का नाम व्यापम जेल रक्षकों की भर्ती घोटाले में आया था –

कांग्रेस से मेहगांव विधानसभा सीट से टिकट मांग रहे हैं राजेंद्र सिंह गुर्जर भाजपा सरकार मे कभी जेल मंत्री रह चुके है और उन्होंने जगदीश देवड़ा के अधीन काम किया था। जब व्यापम मैं जेल रक्षकों की भर्ती घोटाले में उनका नाम सामने आया था।

राजेंद्र सिंह गुर्जर ने नौकरी छोड़ दी और कांग्रेस की राजनीति में सक्रिय हो गए।

राजन सिंह गुर्जर इससे पहले भी 2018 के चुनाव में मेहगांव विधानसभा सीट से कांग्रेस की टिकट पाने की कोशिश कर चुके हैं। कांग्रेस टिकट के पांचवें दावेदार राहुल भदोरिया जो की पूर्व सहकारिता मंत्री और लहार विधायक गोविंद सिंह के भांजे लगते हैं।

पहली बार विधानसभा टिकट पाने की जद्दोजहद में लगे हुए हैं। 

ये भी पढ़े : कमलनाथ की पीसीसी में मीडिया से चर्चा के दौरान कहा शिवराज तय करने वाले कौन की क्या तमाशा है

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here