By-election में बीजेपी-कांग्रेस का बरकरार आपसी तंज, हो रही जुबानी जंग की राजनीती

0
56
By-election bjp-congress

भोपाल। यह उपचुनाव (By-election) बीजेपी हो या कांग्रेस, सपा हो या बसपा सबके लिए एक मैदानी और जुबानी जंग बन गया है। कांग्रेस की सोच ही विकास विरोधी रही है। पूर्व में बनी कांग्रेस की सरकार ने प्रदेश का बंटाढार कर दिया था, तो कमलनाथ सरकार ने वल्लभभवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया। कमलनाथ सरकार ने जनहित की सारी योजनाएं बंद कर दीं और विकास को ठप करके प्रदेश को बंटाढार युग की तरफ धकेल दिया। इसलिए ये उपचुनाव साधारण चुनाव नहीं हैं, बल्कि ये प्रदेश को बचाने और प्रदेश की जनता के हितों की रक्षा का चुनाव है।

ये भी पढ़े : उपचुनाव बना बयानबाजी का खेल, कमलनाथ-शिवराज अवल्ल नंबर पर, जानिए कैसे

प्रधानमंत्री के हाथ मजबूत करे –

उपचुनाव (By-election) में प्रदेश के विकास, हर वर्ग के कल्याण के लिए भाजपा उम्मीदवारों को जिताएं, प्रदेश में भाजपा की सरकार को स्थायी बनाएं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथ मजबूत करें। यह आह्वान दिमनी विधानसभा के सिंहोनिया और मुरैना की जनसभाओं में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती और वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जनसभाओं को संबोधित किया।

ये भी पढ़े : कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग, बीजेपी के 9 नेताओ के खिलाफ की शिकायत

हमने पैसो का रोना नहीं रोया –

सभाओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ विकास कार्यों के लिए पैसों का ही रोना रहते थे। लेकिन मैं कहता हूं कि प्रदेश के विकास के लिए खजाना कभी खाली नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार जनता की सेवा और प्रदेश के विकास के लिए ही आई है। लेकिन कांग्रेस अपने एजेंडों के लिए सरकार में आई थी। प्रदेश की जनता के साथ छल-कपट, धोखा, गद्दारी करके इन्होंने सरकार तो बना ली थी, लेकिन वादे पूरे नहीं किए।

ये भी पढ़े : तोमर : उपचुनाव साधारण नहीं, मध्यप्रदेश की दिशा और दशा निर्धारित करेगा

सिंधिया ने कांग्रेस सरकार गिराकर कल्याण का काम किया –

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस की सरकार को गिराकर प्रदेशवासियों के कल्याण का काम किया है। सीएम ने कहा कि प्रदेश में 15 माह तक कमलनाथ सरकार रही, लेकिन इन्होंने कोई विकास कार्य नहीं किए। 2003 से पहले मिस्टर बंटाढार ने प्रदेश को बर्बाद करने का काम किया था, तो 15 महीनों में कमलनाथ ने भी प्रदेश को भ्रष्टाचार का गढ़ बना दिया। वल्लभ भवन में बैठकर दिनभर तबादला उद्योग चलता रहता था। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने हमारी योजनाओं को बंद कर दिया। चाहे संबल योजना हो, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना हो, या मेधावी विद्यार्थियों को लेपटॉप देने की योजना, कमलनाथ सरकार ने हर योजना बंद कर दी थी।

ये भी पढ़े : कोविड-19 के भारत में पिछले 24 घंटों में 48,268 नए मामले, आंकड़ा 81 लाख पार

Daily Update के लिए अभी डाउनलोड करे : MP samachar का मोबाइल एप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here